8 माह के दौरान सोयाबीन की पेराई में हुआ इजाफा,सोया खली निर्यात में सुधार !

indore news

इंदौर। सोयाबीन की पेराई अब सुचारू लगने लगी है। बीते महीने में इसके पेराई में इजाफा हुआ है, हालांकि ओल और सामान्य मांग के गिरावट आई है। तेल और (अवसरों के लिहाज से) के चलते 8 माह के दौरान देशी सोयाबीन की पेराई अच्छी रही। सोया खली के निर्यात में भी सुधार दर्ज की गई है।

8 माह के दौरान सोयाबीन की पेराई में हुआ इजाफा !

प्रमुख संगठन सोयाबीन प्रोसेसर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सोपा) ने जो आंकड़े जारी किए हैं, उसके अनुसार अक्टूबर 2023 से 24 के बीच 83.5 लाख टन सोयाबीन की पेराई की गई, जो पिछले साल की इसी अवधि में 75 लाख टन थी। मांग में सुधार के चलते सोयाबीन की पेराई में इजाफा हुआ है।

सोपा के अनुसार मई में 9 लाख टन सोयाबीन की पेराई की गई, जबकि पिछले साल मई में यह आंकड़ा 7.9 लाख टन था। घरेलू बाजार में 7.5 लाख टन और निर्यात में 1.5 लाख टन सोया खली की खपत रही।

सोपा ने बताया कि 2023-24 के पहले 8 महीने में सोया खली का उत्पादन 115 लाख क्विंटल हुआ, जबकि पिछले साल इसी अवधि में 105 लाख क्विंटल था। निर्यात में भी बढ़ोतरी दर्ज की गई है, जो पिछले साल की 15.16 लाख टन से इस साल 18.96 लाख टन हो गई है।

सोया खली निर्यात भी सुधरा

नई फसल के दौरान सोया खली के निर्यात में भी सुधार देखने को मिला, जबकि अधिकतम निर्यात फरवरी में दर्ज किया गया। इस अवधि में 1.8 लाख टन सोया खली का निर्यात हुआ। हालांकि, मार्च में निर्यात गिरकर 1.2 लाख टन रह गया। नई फसल की स्थिति देखते हुए निर्यात में फिर से वृद्धि हुई। कुल निर्यात में पिछले साल की तुलना में 20% का इजाफा दर्ज किया गया है।

देश में सोया खली का उत्पादन 2023-24 की शुरुआत में 115 लाख क्विंटल हुआ है, जो पिछले साल की इसी अवधि में 105 लाख क्विंटल था। देश की मांग और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सुधार के चलते सोया खली के निर्यात में भी तेजी आई है, जो पिछले साल की 15.16 लाख टन निर्यात से 18.96 लाख टन तक पहुंच गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *