पुलिस थानों के बाद अब जिलों और तहसीलों की सीमाओं का होगा पुनर्निर्धारण !

इंदौर: पिछले दिनों मुख्यमंत्री के निर्देश पर जिले के पुलिस थानों की सीमाओं का युक्तियुक्तकरण किया गया। अब उसी तर्ज पर संभाग के सभी जिलों, अनुभाग एवं तहसीलों की सीमाओं का भी पुनर्निर्धारण किया जाएगा, इसके लिए संभाग का चयन पायलट प्रोजेक्ट के तहत किया गया है।

जल गंगा संबंधी अभियान भी अपर मुख्य सचिव मलय श्रीवास्तव की अध्यक्षता में हुई विभागीय समीक्षा बैठक में की गई।

पुलिस थानों के बाद अब जिलों और तहसीलों की सीमाओं का होगा पुनर्निर्धारण !

मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने संभाग को संभालने का जिम्मा वरिष्ठ अफसरों को सौंपा है और इंदौर संभाग के प्रभारी अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास मलय श्रीवास्तव हैं, जिन्होंने संभाग के सभी जिलों के कलेक्टर, जिला पंचायत सीईओ और अन्य विभागीय वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक ली, जिसमें संभागयुक्त दीपकसिंह, विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी अभिनव तोमर, कलेक्टर इलैया राजा टी एवं सभी जिलों के अधिकारी मौजूद रहे।

श्रीवास्तव ने जिलों, अनुभाग एवं तहसीलों की सीमाओं के युक्तियुक्तकरण के प्रस्ताव तैयार करने को कहा और अधिकांश जिलों ने प्रारंभिक स्तर पर इसकी तैयारी भी कर ली है। अब जनप्रतिनिधियों से विचार विमर्श कर इसे अंतिम रूप दिया जाएगा।

जल गंगा संबंधी अभियान

इसीरे संभाग में जल गंगा संबंधी अभियान के तहत सभी जिलों में यह सुनिश्चित हो, तब नदियाँ, तालाबों, कुओं की साफ-सफाई और उनके गहरीकरण का कार्य जारी रहे और बारिश से पूर्व बारिश का अनुकूलन सुनिश्चित किया जाए।

बारिशों के अवशेष उठवाना, परिवहन और भंडारण पर पाबंदी से रोक लगाई और उसी स्थिति में किसानों के इस्तेमाल की भी सलाह दी गई। जल ग्रहण क्षेत्र में जल चौपाल भी करने को कहा गया, ताकि ही राज्य के प्रकरणों का अध्याय भी निपटाकर कार्य रजिस्टर को तुरंत बाद मान्यता हो जाए उसकी भी सत्तारूढ़ा में के निर्देश अनुसार की जाए और कार्यदायी संस्था को भी प्रोजेक्ट में सुसंगत किया जाए। यह भी दावा किया गया कि 272 बिंदुओं में से 192 का पालन सुनिश्चित कर लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *