नीट परीक्षा में धांधली: कोचिंग और सॉल्वर गैंग का बढ़ता जाल देश का बड़ा कैंसर |

23 लाख विद्यार्थियों का भविष्य एक झटके में संकट में आ गया है। कोचिंग और सॉल्वर गैंग का आतंक लगातार बढ़ता जा रहा है। ये आतंकी न केवल परीक्षा में धांधली कराते हैं, बल्कि विद्यार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करते हैं। नीट परीक्षा के हालिया परिणाम से यह स्पष्ट हो गया है कि यह गैंग राष्ट्रीय स्तर पर सक्रिय है।

राजनैतिक हस्तक्षेप, कोचिंग माफिया, धन-बल के बढ़ते प्रभाव से धांधली

राजनैतिक हस्तक्षेप, कोचिंग माफिया, धन-बल के बढ़ते प्रभाव से धांधली के चलते शिक्षा के साथ नौकरियों की गुणवत्ता गिरने से शैक्षिक असमानता बढ़ रही है। कोचिंग माफिया और सॉल्वर गैंग की भम्र मिलीभगत से अयोग्य और धनवान पुत्रों का मेडिकल प्रोफेशन में आने से पूरी सामाजिक व्यवस्था का अस्तित्व खतरे में पड़ सकता है।

नीट परीक्षा में धांधली के प्रमुख कारण

  1. नकली कैंडिडेट का इस्तेमाल: परीक्षा में नकली कैंडिडेट्स का उपयोग कराना आम बात हो गई है।
  2. सॉल्वर गैंग का आतंक: सॉल्वर गैंग परीक्षा हॉल में असली कैंडिडेट्स की जगह बैठकर परीक्षा देता है।
  3. धनबल का उपयोग: प्रभावशाली लोग पैसे के बल पर परीक्षा में धांधली कराते हैं।
  4. राजनीतिक समर्थन: राजनीतिक नेताओं के समर्थन से धांधली को बढ़ावा मिलता है।

समाधान के प्रयास

  1. सख्त कानूनी कार्यवाही: दोषियों को सख्त सजा देकर इस समस्या का समाधान किया जा सकता है।
  2. पारदर्शिता और निगरानी: परीक्षा प्रक्रिया को पारदर्शी बनाना और निगरानी बढ़ाना जरूरी है।
  3. जन जागरूकता: लोगों को इस मुद्दे के प्रति जागरूक करना भी महत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *